Day: March 28, 2020

Kaalratri Sadhna

Kaalratri is the seventh of the nine forms of the Goddess Durga, known as the Navadurga. The seventh day of Navratri pooja in particular is dedicated to her. In this day energy of sadhak is strong in “Sahasrar chakra”. Kaalratri devi is also associated with the crown chakra (sahasrara chakra), thereby giving the invoker various siddhis.  Kaalratri is widely regarded as one of the …

Kaalratri Sadhna Read More »

About Sadhna ?

Sadhana is the first phase, meditation the second phase, yog the third phase. Sadhana, meditation, yog and then comes upasna (worship) and then shakti chaitanya (power consciousness) – i.e. incorporation of the absolute power of God into the human body and being completely gleeful and living perfectly the worldly life as well as godly life …

About Sadhna ? Read More »

दर्शन तो विचार शुन्यता में है

तुम्हे मंजिल पे पहुचना है…अपने विचार, छल-छद्म से परिपूर्ण अपनी ओछी वृत्ति तुम्हें अपनी मंजिल तक पहुचने में बाधक है…सदगुरु दीक्षा धारण कर, उसमे खोकर विचार शुन्य मस्तिष्क का निर्माण करो, खुद में गहन उतर जाओगे…कही भटकने की जरूरत नहीं, जहा हो वही मंजिल अन्यथा दूर तक राह चलते, राही हो, राही ही रह जाओगे…निश्तेज …

दर्शन तो विचार शुन्यता में है Read More »

कलुषित मन

एक बार कुछ पंडित ”गंगा-जल” की महिमा का बखान करते हुए ”कबीर” साब से बोले…”गंगा” का पानी घोर-पापियों के पाप का कलुष धोकर उन्हें पवित्र कर सकता है…..        यह सुनकर कबीर ने अपने लोटे में रखा गंगा का पानी पंडितो को पीने के लिए दिया…इस पर पंडित बहुत क्रुद्ध हुए…एक ”नीच-जुलाहे” का …

कलुषित मन Read More »

क्यों अधूरी जिंदगी जीते है हम…?

  एक व्यक्ति विशेष की पूरी जिंदगी ”तन-मन” के पोषण हेतु ”धन” कमाकर संसाधनों को जुटाने में ही समाप्त हो जाती है…वह भूल जाता है कि यह सब कुछ जिसके बल पे करता है ”स्वांस-प्राण-आत्मा” के ,उसकी शरण कभी नहीं जाता…हाँ अगर जाता भी है स्वांस की शरण ,तब जब ”दमा” हो जाता है ,जाता …

क्यों अधूरी जिंदगी जीते है हम…? Read More »

काम राम…राम काम

  ”काम” के बिना राम नहीं और ”राम” के बिना काम नहीं…”तन-मन” और ”प्राण-आत्मा” के संयोजन से जीवन चलता है…तन-मन-प्राण की अपनी जरुरत भी है…समय विशेष में ”सुधीजन” हो या ”साधक” ”साधू” हो या ”सिद्ध” सभी अपनी इस आवश्यकता को पूरा कर ही लेते है……         आदर्श अपनी जगह रह जाता है …

काम राम…राम काम Read More »

“Nikhil” Brahma Sandesh 3 – Your presence have become now presence of mine.

“Alimighty”  you want to say something to me…? Greeting dear “Soul” !..”I” your guru “Brahma”……any name called to “me” in this world, none of them is mine name….in “treta” when i took birth in that spirit i got “raam” as name…in “dvapar” when i enlightened in i that spirit ,people called me “krishna” …..krishna was …

“Nikhil” Brahma Sandesh 3 – Your presence have become now presence of mine. Read More »

“Nikhil” Brahma Sandesh 2 – This “mantra” is more dive, pure, naturally created by your and mine consciousness

Question – Hey , Prabhu you have repullated a divine “Mantra” and given to me ..what is your order? Answer – My, dear Kamal, putting all your aspiration into reality is only my objective….in this “Guru Purnima” occasion, you provide to all your disciple and follower this divine “mantra”  and moisten them from “Brahma energy” …

“Nikhil” Brahma Sandesh 2 – This “mantra” is more dive, pure, naturally created by your and mine consciousness Read More »