माँ का प्यार – मातृ दिवस पर विशेष कविता | नम्रता कमलिनी जी

माँ है क्या वही समझता जिसके पास नहीं होती | जीवन देती पोषण देती आँचल में है दूध पीलाती || बच्चे माँ के धड़कन | बस समझती बच्चों की तड़पन || बच्चे करते माँ से अनबन | फिर भी उसका प्यार है सावन || माँ का प्यार माँ का मार | इसमें बच्चों का संसार …

माँ का प्यार – मातृ दिवस पर विशेष कविता | नम्रता कमलिनी जी Read More »